ध्रुवस्वामिनी - गीता अस्थाना DhruvaSwamini - Hindi book by - Geeta Asthana
लोगों की राय

बी ए - एम ए >> ध्रुवस्वामिनी

ध्रुवस्वामिनी

डॉ. गीता अस्थाना

डॉ. अशेष कुमार पाठक

प्रकाशक : एपसाइलन बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2017
पृष्ठ :76
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 2499
आईएसबीएन :9789383087471

Like this Hindi book 0

बीए प्रथम वर्ष हिन्दी साहित्य के द्वितीय प्रश्नपत्र हेतु

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय, कानपुर द्वारा
निर्धारित नवीनतम पाठ्यक्रमानुसार
बी.ए. प्रथम वर्ष हिन्दी साहित्य के द्वितीय प्रश्नपत्र हेतु

पाठ्यक्रम

बी०ए० प्रथम वर्ष
हिन्दी साहित्य : द्वितीय प्रश्नपत्र
हिन्दी नाट्य साहित्य
पूर्णाक : 50

(क) नाटक-
ध्रुवस्वामिनी - जयशंकर प्रसाद
आषाढ़ का एक दिन - मोहन राकेश
(ख) एकांकी सप्तक-
औरंगजेब की आखिरी रात - डॉ० रामकुमार वर्मा
स्ट्राइक- भुवनेश्वर
भोर का तारा - जगदीश चन्द्र माथुर
मम्मी ठकुराइन - लक्ष्मी नारायण लाल
नये मेहमान - उदयशंकर भट्ट
सूखी डाली - उपेन्द्रनाथ अश्क'
सीमा रेखा - विष्णु प्रभाकर
द्रुतपाठ -
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, हरिकृष्ण प्रेमी, लक्ष्मीनारायण मिश्र, धर्मवीर भारती।
प्रथम प्रश्न -
(क) अनिवार्य दस वस्तुनिष्ठ / लघु उत्तरीय प्रश्न ।
(प्रश्नपत्र के सम्पूर्ण पाठ्यक्रम से) (10x1=10)
(ख) अनिवार्य पांच लघु उत्तरीय प्रश्न ।
(प्रश्नपत्र के द्रुतपाठ के पाठ्यक्रम से) (5 x 2=10)
इकाई-1: नाटकों पर निर्धारित व्याख्याएँ। (2x4=8)
इकाई-2: एकांकियों पर निर्धारित व्याख्याएँ। (2x4=D8)
इकाई-3: ध्रुवस्वामिनी एवं आषाढ़ का एक दिन से निर्धारित आलोचनात्मक प्रश्न  (7x1=7)
इकाई-4: निर्धारित एकांकियों एवं एकांकीकारों से सम्बन्धित आलोचनात्मक प्रश्न  (7x1=7)

अनुक्रमणिका

हिन्दी नाटक : सामान्य परिचय ... ४-६
ध्रुवस्वामिनी : जयशंकर प्रसाद ... १०-७२
जयशंकर प्रसाद जी का व्यक्तित्व एवं कृतित्व ... १०-११
'ध्रुवस्वामिनी' नाटक की नाटकीय तत्वों के आधार पर समीक्षा ... ११-१३
ध्रुवस्वामिनी नाटक के नायक का चरित्र-चित्रण ... १३-१४
ध्रुवस्वामिनी (नायिका) का चरित्र-चित्रण ... १४-१६
ध्रवस्वामिनी का कथोपकथन अथवा संवाद-योजना ... १६-१८
मूलपाठ ... १६-४६
ध्रुवस्वामिनी नाटक की कथावस्तु / साराश ... ४७-४८
महत्वपूर्ण गद्यांशों की व्याख्या ... ४८-६६
अभ्यास प्रश्न ... ६६-७२

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

लोगों की राय

No reviews for this book