Business Regulatory Framework
लोगों की राय

बी काम - एम काम >> व्यावसायिक नियामक ढाँचा

व्यावसायिक नियामक ढाँचा

प्रो. आर सी अग्रवाल

संजय अग्रवाल

प्रकाशक : एसबीपीडी पब्लिशिंग हाउस प्रकाशित वर्ष : 2019
पृष्ठ :424
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 2542
आईएसबीएन :9789350470312

Like this Hindi book 0

विभिन्न भारतीय विश्वविद्यालयों के बी. काम. के पाठ्यक्रमानुसार

व्यावसायिक नियामक ढाँचा

विभिन्न भारतीय विश्वविद्यालयों के बी. काम. के पाठ्यक्रमानुसार
According to Syllabus of B Com

विषय-सूची

इकाई प्रथम  Unit - I
भारतीय अनुबन्ध अधिनियम, 1872 (धाराएँ 1-75)
Indian Contract Act, 1872

1. व्यापारिक वाणिज्यिक सन्नियम : एक परिचय  ... 1-5
Mercantile Law-An Introduction
2. भारतीय अनुबन्ध अधिनियम, 1872 एक परिचय (धाराएँ 1-2)  ... 6-11
Indian Contract Act, 1872-An Introduction
3. अनुबन्ध : अर्थ, परिभाषा एवं वैध अनुबन्ध के लक्षण (धाराएँ 2-10)  ... 12-19
Contract : Meaning, Definition And Characteristics of A Valid Contract)
4. ठहराव : अर्थ, प्रकार एवं अन्तर ...  20-32
Agreement: Meaning, Kinds and Difference
5. प्रस्ताव, स्वीकृति, संवहन एवं खण्डन (धाराएँ 2-10) ... 33-56
Proposal Offer, Acceptance, Communication and Revocation
6. पक्षकारों की अनुबन्ध करने की क्षमता अथवा अनुबन्ध करने के योग्य पक्षकार (धाराएँ 11-12) ... 57-69
Capacity of Parties to Contract of Parties Competency to Contract)
7. स्वतन्त्र सहमति (धाराएँ 13-22) ... 70–96
Free Consent
8. न्यायोचित प्रतिफल एवं उद्देश्य (धाराएँ 2(d) एवं 23-25) ...  97-114
Lawful Consideration and Object
9. स्पष्ट रूप से व्यर्थ घोषित ठहराव (धाराएँ 26-30 तथा 56) ... 115-126
Agreements Expressly Declared as Void
10. सांयोगिक अथवा संयोगिक अथवा सम्भाव्य अनुबन्ध (धाराएँ 31-36) ... 127-182 Contingent Contracts
11. अनुबन्धों का निष्पादन तथा भुगतानों का विनियोजन (धाराएँ 37–61) ... 133-145 Performance of Contracts and Appropriation of Payments)
12. अनुबन्धों की समाप्ति (धाराएँ 37–67) ... 146-155
Discharge Of Contracts
13. अर्द्ध अथवा गर्भित अनुबन्ध अथवा अनुबन्ध द्वारा निर्मित सम्बन्धों के समान कुछ नाते (धाराएँ 68-72) ... 156-162
Quasi of Implied Contracts or Certain Relations Resembling those Created By Contract
14. अनुबन्ध-भंग खण्डन तथा अनुबन्ध-भंग के उपचार अथवा परिणाम (धाराएँ73-75) ... 163-174
Breach of Contract and Remedies or Consequences for Breach of Contract)

इकाई द्वितीय  Unit - II
विशिष्ट अनुबन्ध
Special Contracts
हानिरक्षा तथा गारण्टी, निक्षेप तथा गिरवी और एजेन्सी सम्बन्धी अनुबन्ध
Contracts Relating To Indemnity And Guarantee, Bailment And Pledge And Contracts Of Agency
(धाराएँ 124-238)

15. हानि-रक्षा क्षतिपूर्ति तथा प्रत्याभूति अनुबन्ध (धाराएँ 124-147) ... 175-191
Contracts of Indemnity and Guarantee
16. निक्षेप तथा गिरवी अनुबन्ध (धाराएँ 148–181) ... 192-214
Contract of Bailment and Pledge
17. एजेन्सी अथवा अभिकरण के अनुबन्ध धाराएँ 182-238) ...  215-238
Contracts of Agency
इकाई तृतीय  Unit-III
वस्तु विक्रय अधिनियम, 1930
Sales of Goods Act, 1930
18. वस्तु विक्रय अधिनियम, 1930-एक परिचय (धाराएँ 1-10) ... 239-253
Sales of Goods Act, 1930 - An Introduction
19. शर्ते अथवा आश्वासन (धाराएँ 12-17) ... 254-265
Conditions and Warranties
20. विक्रय अनुबन्ध का प्रभाव-स्वामित्व तथा स्वतत्व (अधिकार) का हस्तान्तरण (धाराएँ 18-30) ... 266-278
Effects of the Contract of Sale-Transfer of Ownership and Title)
21. विक्रय अनुबन्ध का निष्पादन (धाराएँ 31-44)  ... 279-285
Performance of Contract of Sales
22. अदत्त विक्रेता के अधिकार, अनुबन्ध-भंग के लिए वाद तथा नीलाम द्वारा विक्रय (धाराएँ 45–64) ... 286-296
Rights of Unpaid Seller, Suit for Breach of Contract and Auction Sale
23. किराया-खरीद ठहराव अथवा क्रयावक्रय ठहराव ... 297-300
Hire-Purchase Agreement

इकाई चतुर्थ  Unit - IV
विनिमय-साध्य अधिनियम 1881, संशोधित 2002, तक
Negotiable Instrument Act, 1881 as Amended Upto, 2002

1. विनिमय-साध्य लेख-पत्र या विलेख अथवा रुक्का अधिनियम - सामान्य परिचय (धाराएँ 1-25) ... 1-26
Negotiable Instrument Act - General Introduction
2. प्रतिज्ञा-पत्र, विनिमय-पत्र. चैक के पक्षकार (धाराएँ 26-45) ... 27-33
Parties to Promissory Notes, Bills of Exchange and Cheques
3. परक्रामण तथा प्रस्तुति (धाराएँ 46-77) ... 34-41
Negotiation and Presentment
4. भुगतान तथा ब्याज, दायित्व से मुक्ति तथा अप्रतिष्ठित होने की सूचना (धाराएँ 78-98) ... 42-51
Payment and Interest, Discharge From Liability and Notice of Dishonour
5. आलोकन तथा प्रमाणन, उचित समय प्रतिष्ठा के लिये स्वीकृति तथा भुगतान, क्षतिपूर्ति, रेखांकित चैक तथा हुण्डियाँ (धाराएँ 99–131) ...  52-63
Noting and Protesting, Reasonable Time, Acceptance and Payment for Honour,  Compensation, Crossed Cheques and Hundies, Etc.
6. खातों में अपूर्ण धनराशि की दशा में चैक के अप्रतिष्ठित होने पर दण्ड सम्बन्धी नवीन प्रावधान विनिमय साध्य लेखपत्र संशोधित अधिनियम 2002 के अनुसार 6 फरवरी, 2003 से लागू (धाराएँ 138--142) ...  64-68
New Penal Provisions as to Dishonour of a Cheque for  insufficiency of Funds in the Account Enforced From 6th February, 2003

इकाई पंचम्  Unit - V
उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986, सन्, 2002 तक हुए संशोधनों सहित 15 मार्च, 2003 से लागू
The Consumer Protection Act, 1986 as Amended Upto 2002, Enforced from 15th  March, 2003
संरक्षण का अर्थ, उपभोक्ता के सामान्य अधिकार, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम की आदश्यकता, अधिनियम का परिचय, उद्देश्य, अधिनियम के प्रावधान
Meaning of Consumer Protection, General Rights of A Consumer, Need of Consumers Protection Act, Introduction of The Act, Objects, Provisions of The Act

1. उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 ... 1-28
The Consumers Protection Act, 1986

इकाई षष्ठम्  Unit - VI
विदेशी विनिमय प्रबन्धन अधिनियम, 2000
Foreign Exchange Management Act, 2000
परिभाषाएँ एवं प्रमुख प्रावधान
Definitions And Main Provisions

1. विदेशी विनिमय प्रबन्धन अधिनियम, 2000 ... 1-19
Foreign Exchange Management Act, 2000

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book